Good Friday : गुड फ्राइडे आज, जानें इस दिन का महत्व

गुड फ्राइडे दुनिया भर में प्रभु यीशु मसीह की यादगार में मनाया जाता है जब उन्हें क्रूस पर लटकाकर मार दिया गया था रोमी साम्राज्य में क्योंकि प्रभु यीशु मसीह ईश्वर के राज्य का प्रचार करते थे ।स्वदेशीग़लत शिक्षायो का खण्डन करते थे और बीमार लोगो को ठीक  करते थे ।और अपने आप कोपरमेश्वर के तुल्य मानते थे । और लोगो के पापो को क्षमा करते थे । और इसके कारण ही वहा ले रहने वाले लोग इनपर ग़लत इंजाम लगाकर पिलादुष के सामने ले गए जब इनको पिलादूष के सामने ले जाया गया तो इनका कोई दोष नहीं लिकलालेकिन मजबूरन यहूदी यों के कहने पर यीशु मसीह को सूली पर चढायागया जिस दिन प्रभु यीशु मसीह को सूली पर चढ़ाया गया वह तारीख गुड फ्राइडे यानी शुक्रवार का था ।इस  लिए इस दिन को दुनिया भर में इस दिन को गूडफ्राइडे के रूप में मनाया जाता है

कुछ लोगो का मानना है कि यीशु मसीह हमारे  लिए कुरूसित हुए थे सूली पर चढ़ाये गए  थे ।इस लिए वो लोग शोक मनाते है जैसे अर्थोडोगचर्चजो कुछ दूसरे मसीह इस समय में खुश होते है और खुशियां मानते है सड़कों पर उतर कर झाकियां निकालते हैऔर अपनी खुशी को जाहिर करते है ।

यीशु मसीह का जन्म कब और कहां हुआ

आज से हजारों वर्ष पहले ईश्वर के दूर ने एक कुआरी लड़की मरियम को दर्शन दिया उस दूत ने मरियम को बताया कि तुम ईश्वर के पुत्र को जन्मदोगी और उस बच्चे का नाम जिस्सहोगा तो मरियम ने कहा कि मैं तो कूआरि लड़की हूं तो पुत्र को जन्म कैसे दे सकती हूं तो दूत ने कहा तुम एक पवित्र आत्मा की और से जन्म देगी उस समय मरियम यशुफ की मंगेतर थी जब इस बात का पता यशूफ़  को लगा तो समाज में बदनामी के दर से शादी से इंकार कर दिया लेकिन दूत के समझने पर को मरियम एक पवित्र आत्मा को जन्म देगी तो यशुफ़ ने उससे शादी कर ली दोनों एक साथ रहने लगे कुछ महीनों बाद मरियम ने एक बच्चे को जन्म दिया जिसका नाम यीशु पड़ा इनका जन्म सातवीं दूसरी इस पूर्व में हुआ रहा उनका जहां जन्म हुआ वह एक तबेला था

यीशु ने क्रूसको सात अंतिम  वचन बताया

  • प्रथम वचन लुका 23.34आयतमें लिखा है कि हे पिता इन्हें क्षमा कर क्योंकिये नहीं जानते कि क्या कर रहे है अर्थ यीशु ने उन लोगो के लिए क्षमा की प्रार्थना  की है जो लोग उनको किल ठोक रहे थे यीशु ने इसलिए कहा कि हे प्रभु ये लोग जानते नहीं है की मै खुदा हूं अगर ये जानते की मैखुदा हूं तो ये मुझे हाथो पर लेलेते मेरी सेवा करते इस लिए हे प्रभु इनको क्षमा करना यीशु ने ये सब उन भविष्यवाणियों को पूरा करने के  लिए कहा जो यशायाह53.12आयत में प्रभु यीशु के लिए भविष्यवाणी की गई थी ।
  • दूसरा वचन लुका 23.43 आयतमें कही है उसने उससे कहा मै तुझसे सच कहता हूं कि आज ही तू मेरे साथ स्वर्गलोक में होगा ।अर्थ वो डाकू को प्रभु यीशु के दाए बाए लटके हुए थेउनमें एक डाकू ने  मन फिर लिया था उसने कहा कि प्रभु तुम जब अपने राज्य में आए तो हे प्रभु तुम मुझे याद रखना तो यीशु ने उसी टाइम उससे वादा कर दिया कि तू आज ही मेरे साथ स्वर्गलोक जाएगा ।
  • तीसरा वचन यूहन्ना की पुस्तक 19.26 आयत में ऐसे लिखा है यीशु ने आपनी माता और अपने चेले जिससे वो प्रेम रखता था ।पास खड़े देखकर  यीशु ने कहा हे स्त्री देख ये तेरा पुत्र है ।अर्थ  यीशु उससमय क्रूस पर लटके हुए थे उनके पैरों में किलेठोकी हुई थी उस समय उनके सारे चेले भी छोड़कर चले गए थे उस समय भी उनको आपनी माता की चिंता थी उस समय वोआपनी माता की जिम्मेदारी अपने चेले को सौंपते हुए कहे की हे मा आज से यही मेरा पुत्र है ।
  • चौथा वचन मत्ती27.46आयत में यीशु तीसरे पहर के निकट तेज आवाज में जोर जोर से कहते है की एलीएलीलमाशबक्तनीकहने लगे अर्थात हे मेरे परमेश्वर हे मेरे परमेश्वरतूने मुझे क्यों छोड़ दिया अर्थ यीशु के हाथ पैर में किले ठोकी हुई थी उनके ऊपर सबके गुनाहों का भार था उनके शरीर से लहू का कतरा बह रहा था उनको तकलीफ हो रहा था वो एक दम अकेले  पड़ गए थे उनसे परमेश्वर दूर हो गए थे वो परमेश्वर से कह रहे थे कि हे परमेश्वर तूने मुझे क्यों छोड़ दिया।।
  • पांचवा वचन यूहन्ना19.28आयत में यीशु ने यह जानकर  की अब सब कुछ खत्म हो चुका है इसलिए की पवित्र शास्त्र की बात पूरी हो चुकी है तो उन्होंने कहा में प्यासा हूं अर्थ यीशु उतने दर्द में भी उतनी  तकलीफ में भी परमेश्वर की भविष्य वाणी करना नहीं भूले थे वोउतने दर्द में भी आपने कार्य को कर रहे थे ।जो भजन संहिता 69.21 आयत में लिखा है ।
  • छठा वचन यूहन्ना19.30 जब यीशु ने सिरका लिया तो कहा पूरा हुआ अर्थ यीशु जब सूली पर लटके हुए थे तो वो सोच रहे थे कि उन्होंने कुछ भुला तो नहींवो याद कर रहे थे वोसारे काम को पूरा कर चुके थे बस प्राण त्यागना  बाकी रह गया था ।वो उस परिस्थिति में भी अपने काम को पूरा कर रहे थे ।
  • सातवां और अंतिम वचन लुका 23.46आयत मे लिखा है कि यीशु ने  बड़े तेज आवाज में कहा हे प्रभु मैआपनी आत्मा तेरे हाथोमे सौंपता हूं।अर्थयीशु कहते है कि हे प्रभु मैसबके लिए आपने प्राण की बलि दे रहा हूं हे प्रभु मैसबकेगुनाहों की सजा पा रहा हूं हे प्रभुमैसबके गुनाहों की सजा ले लिया है इसलिए हे आप मुझको अपने चरण में लेलिजिए।